The death of muse.

I am tired of the repetitive cliché write-ups being glorified by next gen writers. I am tired of their never settling enthusiasm which fuels the underserved hype.

I am tired of all wannabe intellectuals who have categorized poetry in accordance with their agenda. As if activism is the only means to obtain the ‘oomph’ factor or to get the maximum cheers on what has been written/spoken.

I am tired of everyone in the literature fraternity who has continuously compromised with the structure and flow,just because ‘it’ was ‘important’.

I am tired of reading poetry that glorifies depression as if it were some muse. As if anxiety is something we,the messed up youth with complex mental issues, love to entertain.

I am tired of people depreciating humour because it lacks ‘depth’ and coherent appeal.

I am tired of people who measure the brilliance of a written piece by numbers mechanism. I am tired of the likes in triple figures and the staggering amount of shares on your ‘touching’ posts.

I am tired of not relating to your art,people. Your aesthetics had nothing to do with your punctured description.

I am tired of your rants in the name of prose writing. I am tired of your sass,class and unfathomable rebellion.

Basically,I am tired of myself.

Advertisements

Control is an illusion

I will tell you all about it.Everything.

The basic analogy is related to the formulation of a dream. You don’t remember the starting point;there is none. You’re always in the middle of every dream you’re dreaming. The build up is heavily dependent on the context of scenarios you propagate daily. The voices in my head are real people;atleast to me.The characters resting in my notes folder are real people.

I will tell you how we meet.

I know it because I wrote it

Humans; too many of them to bear with. With a little fidget enters anxiety. And with the crippling anxiety surmounting as the time passes by,you develop traits..some of them you never wished for. Things aren’t easy if you’re in the constant state of paranoia; trust never comes easy to you. But you have to live. You have to let go of that routine you’re holding on to ,every night. You have to find a way to crack the routine which involves swallowing pills at unfathomable rates. Like,I said,you develop traits;out of extreme exasperation. A call for help is made. Too bad,the receiver is you. It isn’t a gift, it’s the never ending disease whose sole purpose is to entertain the existence of this human form.

I will tell you how I meet them.

I know them because I wrote them.

I lack substance, volume and visibility which a naked eye can percieve. Me ,him and all of them are clever enough to sync. Clever enough to pour in the substance this world craves. Clever enough to morph our squares into cube and thus have the irreversible volume.

I will tell you all about it. Everything.

You are in Malviya Nagar metro Station. You see faces you have never seen in your life but somehow you get this uneasy feeling of Déjà vu. It takes 3 minutes for a truly messed up but highly functional brain to join the dots and do a background research. So I switch off. I wake up at Hauz Khas. All set with my version of story; adulterated one. I was always good with imagination. I don’t like that overly extroverted guy who is going to approach me soon and ask me about my opinion on DUSU election. I had already assumed him as a glib brainwasher.

This is how I meet him.

I know him because I wrote him.

With little imagination you can escape reality.

With enough imagination you can control time and space.

So I switch off.

I log back in at Green Park and I see a bunch of wannabe edgelords going berserk. The alpha class in the world of betas and thetas. The bully mongers. The loud unsophisticated crew of generic maggots trying their best to gather attention. The not so artsy classy guys. You see them and you see everything you want to be. This can very well be their escape. Afterall,masculinity lost its virtue way back when the great wars were over. We are the generation of mental patients fighting our own wars and this metro route is their war zone for time being.

This is how I meet them.

I know them because I wrote them.

So I smile.

So I switch off.

Everything is so yellow in the metro. The lights, the pale faces of people,the screens they are tapping their fingers on.. Everything.

So I switch off.

Doors opened on the left this time. Central Secretariot,it is. An urge awakes too. An urge to get rid of monotonicity. So you go out and you walk. And you walk..and you just walk till you’re in the visibility range of Amar Jawan Jyoti. You walk back. All of this to get tired and finally sleep. You breathe a sigh of relief as your eyes are shutting slowly. Things are still yellow but tolerable.

So you switch off; involuntarily this time.

This is how I meet myself.

You wake up at Malviya Nagar.

Error 404 : Déjà vu.

वह जिसे कविता कहते हैं

कहने को तो वह बहुत कुछ है

कहने को तो सब कुछ

कहा तो ये भी जाता है

कि उसकी कोई परिभाषा नहीं है

वह किसी भाषा के पिंजरे में कैद नहीं

हवा में घुलती हुई

वह आज़ाद घूमती है

हर देश,हर प्रान्त में

हर उस सांस में

जिसे गोरे-काले की पहचान नहीं

वह हर लिपि में खूबसूरत है

नदी सी बहती है

बांध रहित ख़यालों में

जिसे बस स्याही चाहिए

शब्दों द्वारा भू से रवि पहुंचने को

अफ़ीम कहो या नशा

प्रसाद कहो या वात्सल्य

वह किसी सूक्ष्म रूप में नहीं

वह प्रेम है उस मीरा का

जिसे चाकरी में ही सुख मिला

वह रहीम को दास बनाती है

और ख़ुसरो को अमीर

वह अदब है उस शायर की

जिसके शेर ही उसका परिचय हैं

वह गरजना है उस विद्रोही की

जिसके शब्द-शब्द जनक्रांति के स्तम्भ हैं

उसका मोल किसी तराज़ू का मोहताज नहीं

वह बने शान महफ़िल की

या शांत रहे रूठी सी

वह कला से है

किसी कलाकार से नहीं

समय का उस पर बस नहीं

वह हर दौर से है

यानी किसी दौर की नहीं

थाह उसकी उम्र से नहीं मापी जाती

समझ उसकी सिर्फ अनुभूति से है

कहाँ रंगमंच पे ढूंढते फिरते हो

खोजो उसे ख़ामोश गलियारों में

वो शोर है उस आह में छिपा

जिसे तलब है आज़ाद कलम की

इसे तुम जकड़ नहीं पाओगे

किसी मीटर या बहर में

वह कण-कण में है

वह कण-कण से है

कहने को तो वह बहुत कुछ है

कहने को तो सब कुछ

इसे अपनी तारीफ़ ही समझना

ठीक है

अब जब याद आ गयी है

तो मैं दिखावा क्यों करूं?

हर वक्त,हर लम्हा

दिन हो या रात,

महीने दर महीने

यही तो किया है..दिखावा

अब जब दो साल होने को आये हैं

तो क्यों न चढ़ने दूँ

उस नशे को जो उन सारे बीते लम्हों का

जैसे फ्लैशबैक सामने लेके आया हो

और इसे तारीफ़ ही समझना

के सालों बाद वो सारी बकैती

वो हर एक छोटी बात

वो स्क्रीन के सामने खिलती मुस्कान

अब भी तस्वीर स्वरूप

मेरी इन भारी होती आंखों में

स्क्रीनशॉट की तरह सुरक्षित है

ठीक है

हर इश्क़ का मुकम्मल होना,

ज़रूरी नहीं

हर इश्क़ का दो तरफ़ा होना,

वाजिब नहीं

इसे अपनी तारीफ़ ही समझना

के अब जो नशे में कुबूला है

वो एक तरफ़ा प्यार के काबिल तो है

भले ही कामिल न हो

क्योंकि इसमें झल्लाहट नहीं

सिर्फ बेकरारी है

ठीक है

उम्मीद का न होना

उम्मीद के खत्म होने से

बेहतर ही होगा

तुम्हारा साथ न होना

तुम्हारे ‘कल’ होने से

बेहतर ही होगा

पर इसे अपनी तारीफ़ ही समझना

के बहते से इस माहौल में

मुझे तुमसे जुड़ी हर बात

हर एक याद ..स्थिर लगती है

Chaos and Internet.

Political Ideology is just like an actor you worship blindly.Just like that same ignorant prick you have worshipped all your life, who has successfully screwed you to the point where your nonsensical brain can’t identify with reason and contemplation.

You’re just not willing to see the bad side of it. You are hell bent on defending its preposterous existence at any cost while you transform into a delusional troll. You are armed with nostaligia and few good things it offers. You spend nights feeding bullshit to people, thus proving loyalty to it. You consider yourself as a valuable member of its virtual dynasty so you contribute enough for the fandom which is much needed for its perpetual growth.

You preach it in the first place because 4 out of 5 people around you did the same. Peer goddamn pressure had you and your will to look beyond for the answers is dead now.

Now,it is unwilling to change or adapt to change with time. But you have come way too far to let it go. You will still pay for its worthlessness and while you’re at it,you encourage people to do the same. You have become a consummate guardian who has mastered the art of derailing the issue. The debatelord in the virtual arena,the living encyclopedia..you have all the titles.

Look around you for once.

It’s not beautiful.

This world of ours is tearing apart and there is no more unity in diversity. The simple human ability of listening is getting obsolute. Billions are controlled by hundreds who rule over the chaos they create. And you,my friend, have contributed to it as much as any one else. Chaos doesn’t work like they portray it. There is no single prime contributer, everyone is. Isn’t the everyday tension sickening? Who are you smashing or defending exactly? And how do you differentiate between loyalty and righteousness? Of what use are your principles,if they made you both the prime offender and the victim in the end?

Nothing is absolute,nothing is perfectly white or black. The world isn’t divided into two major categories,it is the set of many things and each entity contributes to the balance. The concept of good/bad doesn’t work according to your rulebook of ideology,which has time and again brainwashed you.

Creating something out of nothing is exactly what chaos sounds like.Listen to it, listen to the voices and if you reach profound depths…one of them might as well be yours.

The mind palace is all yours!

बोलो क्या मांगते हो? 

ये लो भाला,ये लो कृपाण

साथ में ये लो कट्टा भी

मारो और खूब मारो

तब तक मारना जब तक वीरता का प्रमाण न मिले

और वीर रस पर कसीदा न पढ़ा जाये

मचाओ हुड़दंग और खूब मचाओ

तब तक मचाओ जब तक सड़कें बंद न हों,

स्कूलों के गेट पर ताले न लगें

हुड़दंग मचेगा तभी तो राजनीति गिरेगी!

बोलो क्या मांगते हो ?



ये लो कैमरा,ये लो माइक

साथ में रख लो चेले भी

एक चेला सवाल पूछेगा

दूसरा चेला जवाब देगा

उधर गद्दी वाले मुस्करायेंगे

चिल्लाओ और खूब चिल्लाओ

तब तक चिल्लाना जब तक सुनने वाला कोई न हो

बहस करो और खूब करो

तब तक करना जब तक अभिनय दम न तोड़े

बहस होगी तभी तो मामला आगे बढ़ेगा!

बोलो क्या मांगते  हो ?



ये लो मोमबत्ती,ये लो पोस्टर

साथ में ये लो झंडा भी

भीड़ बढ़ाओ और खूब बढ़ाओ

तब तक बढ़ाना जब तक साहबज़ादे आर्डर न दें

नारे लगाओ और खूब लगाओ

तब तक लगाना जब तक वर्दी वाले गोले न छोड़ें

भीड़ कुटेगी तभी तो असली आंदोलन शुरू होगा!

बोलो क्या मांगते हो ? 



ये लो ट्विटर,ये लो फेसबुक

साथ में ये लो व्हाट्सएप्प भी

आक्रोश दिखाओ और खूब दिखाओ

तब तक दिखाना जब तक ट्रेंड खत्म न हो

लिखो कटाक्ष और गढ़ो भाषण

तब तक लिखना जब तक क्लेश न हो,

या कीबोर्ड पर आपदा न आन पड़े!

अरे डालो लांछन, मारो ठप्पा

जब तक मुद्दा कुछ और रूप न लेले

खोलो इतिहास और गिनाओ दंगे

मारो तथ्य,बचाओ विचारधारा

और हां, ट्रोल करना मत भूलना!

बोलो क्या मांगते हो ? 



बस दो चेलों की जेल? 

वो जो छूट जाएंगे? 

जिन्हें छूटने पर फूलों से सजा पथ मिलेगा? 

एक फ़ाइल जो कभी भी बंद हो जाएगी? 

जिसे बस एक टी•वी कार्यक्रम के में सिमटा दिया जाएगा? 

अरे सुनते हो!

चुनाव आने वाला है! 

बोलो क्या मांगते हो? 

His screams


His screams

Amplifying the magnitude of chaos

Dwells into sorrows

Bewildering the vocal masters

All thunderstruck,all numb


His screams

Devouring his lungs

Sends shivers to a billion spines

Causing catastrophic desire

Quenching the parched souls


His screams

Weaving roars of uprising

Chides the wall of resurgence

Spanning umatched rhythms

Instigating rush in nerves


His screams

Looping in the hinged minds

Reverberates in the shattered hearts

Transcending limited emotions,

Discovering the  buried flames


His screams

Cultivating teenage playlist

Immortalises the “Chaz” legend

Amidst all legends

Unresting in the memoirs,written in chords.



Roar in paradise,legend!

वो जो देख सकते हैं.

​प्यार।
इस शब्द की थाह,संकल्पना मेरी समझ से परे है। 

अनायास लिख लेता हूँ इस विषय पर ,किन्तु इस बात की पुष्टि तो स्वयं मैं भी नहीं कर सकता कि मुझे पहले कभी प्यार हुआ है या नहीं ।

शायद इसमें मेधा का कोई लेना-देना नहीं होता,पर मुझे क्या मालूम ? मैं ठहरा एक सादा सा प्राणी जिसे इस भाव से वंचित रहना रास आया और कभी ख़ास कोशिश भी नहीं की अपनी “भ्रमचारी” अवस्था बदलने की।

सच कहूं तो मुझे जो चीज़ दिखती है मैं उसे ही स्वीकारता हूँ।फिर चाहे कोई मेरी नास्तिकता पर भौं सिकोड़े,या समाज में यथेष्ट रूप से अच्छाई न दिखने पर निराशावादी की उपाधी दे,मोये फर्क न पड़ता भाईसाब।

मुझे प्यार नहीं दिखता। 

मुझे दिखाई देता है तो सिर्फ जालसाज। इन नकाबपोशों की मुहब्बत को सिर्फ दूसरे नकाबपोश या अपनी ज़िंदगी से ख़फ़ा हो चुके बहके लोग ही भाव दे सकते हैं ,मैं नहीं।

बस बचते हैं तो कवि,ये वो सितम के मारे लोग हैं जिनकी मुहब्बत मुकम्मल नहीं हुई,होती तो कवि कैसे बनते जनाब। मैं अपने आप को कवि नहीं मानता क्योंकि इसका मेनस्ट्रीम कल्चर मेरे लिए नहीं बना,और सच कहूं तो मेरे बस की भी नहीं है। बहुत ईमानदार और हिम्मत वाले हैं ये लोग जो अपने अंदर की त्रासदी को बेजोड़ परोसते हैं।इन्होंने पचड़े खाये हैं, पापड़ बेले हैं और बदले में बस खीज ही नसीब हुई। कहने को तो ये एक-आद कविता गढ़ लें के ये ख़ुश हैं क्योंकि ‘वो’  ख़ुश हैं, पर घंटा खुश हैं ये कवि।मेरे प्यारे कवि,तुम्हें मेरा फ़िर से नमन।

ख़ैर,चोट खाये हुए कवियों की तादाद ज़्यादा है। केवल यही लोग हैं जो मुझे बड़ी ईमानदारी से अपने ज़ख्म उजागर करते हुए दिखते हैं। वापस आते हैं असल बात पर,जब मैं कहता हूं कि मुझे प्यार नहीं दिखता तो इसका मतलब है कि मुक्कमल प्यार। यहां मेरे प्रिय कवि भी हार चुके हैं। 

मुझे प्यार कतई नहीं दिखता,दिखाई देता है तो सिर्फ एक आईडिया जिसके पीछे भागती है भीड़। जिसे बचपन से यही बताया गया है कि प्यार होता कैसे है। लोग उन बातों के पीछे भागते हैं,प्यार के नहीं।

“अरे मियां,ये तो बस हो ही जाता है “

अहम-अहम,हो ही जाता होगा,मोये का मालूम? मैं ठहरा गवार। 

पर ये सब बातें आज से पहले की हैं।

——————————————————————

इस गवार को आज सुबह से पहले ज्ञात नहीं था कि सिर्फ एक मंज़र ही काफ़ी होता है फ़लसफ़ा ज़ेहन में बैठाने के लिए।इस गवार ने आज कुछ देखा। 

बात है सुबह की,ये गवार अपनी बेहद बोरिंग ज़िन्दगी की दिनचर्या के बीच में था। 

गवार की क्रिया अनुसूची : उठना,लाइब्रेरी में पढ़ना, कोचिंग जाना,फ़िर लाइब्रेरी में पढ़ना और वापस घर की ओर प्रस्थान करना।

ज़ाहिर सी बात है इस सूची में सफ़र का काफ़ी महत्व है। 

मेट्रो में 2 घण्टे तो निकलते ही हैं। तरह-तरह के लोग दिखते हैं। बाहों में बाहें फ़ैलाये प्रेमी युगल भी।  

ये साला प्यार क्यों नहीं दिखता ?

क्योंकि मैं गवार हूँ।

मैंने जो बचपन से  देखा है उससे इतना ही जाना है कि इंसान को  खूबसूरती भाती है। हम प्यार में हैं क्योंकि दूसरा खूबसूरत है। वो अगर क्लासी निकले तो क्या ही बात। मैं इसका दोषी हूँ, पर मैं ठहरा गवार!

जल्दी ही उबर गया। इस गवार को बहुत जल्द एहसास हो गया कि बेटा वो जो तुम्हें हुआ है ना वो कॉन्सेप्ट से लगाव हुआ है,ये प्यार वगैरह तुम्हारे बस में नहीं। 

तुम्हें बताया गया था कि प्यार में पड़ने का सबसे पहला स्टेप होता है सफेद चेहरा ढूंढना। (यहाँ पर ज़ोरदार हमला हो चुका है,समझ लो)

मैं आज यही ऐंठ लिये घूम रहा था कि ये सब धोखा है,लोगों को भी प्यार नहीं होता/दिखता, बस अपने आप को सांत्वना देने के लिए मुखौटा ओढ़े ख़ुश हैं। 

हमेशा की तरह आज भी सफ़र कर रहा था।एक लड़का और लड़की साथ में हंस रहे थे और दोनों ने चश्में लगाए हुए थे,काले चश्में। पर आज कुछ अलग हुआ,आज मेरे अंदर खुजली नहीं हुई उन्हें प्रेमी युगल घोषित करने की और उनसे तुरंत ध्यान हटाने की जो मैं हमेशा करता हूं।

उनके चेहरे पर थी असीमित मुस्कान जो इतनी ईमानदार थी कि मैं भी मुस्करा पड़ा।  

उनका चश्मे पहनकर एक दूसरे की ओर बिना देखे बतियाना और मुस्करा जाना इस गवार को पसंद आया और इतना पसंद आया कि फोन में रॉक से सीधा स्लो संगीत बजने लगा।

गौर करने की बात ये थी कि दोनों ने इस पूरे वक्त एक दूसरे का हाथ पकड़ रखा था जो बता रहा था कि ये वो ‘सफेद’ वाला नहीं है। ये भरोसे वाला था जानी।

उनकी केमिस्ट्री देखते ही बन रही थी। फ़िर अगले स्टेशन से पहले आवाज़ गूंजी ” अगला स्टेशन विश्वविद्यालय है..”। वो एक दूसरे का हाथ थामे,एक दूसरे पर भरोसा रखते हुए गेट की ओर आगे बढ़े।

बेहद शांत तरीके से छड़ी हाथ में लिए आस-पास की चीज़ों को महसूस करते हुए वो आगे निकल गए। 

कहने को तो मुझे अगले स्टेशन पर उतरना था पर इस गवार पर आज उसका बस नहीं था। 

पहले सीढ़ियां और फ़िर निकास द्वार,मुस्कराते हुए,खिल-खिलाते हुए,चह-चहाते हुए,एक दूसरे का हाथ थामकर उन्होंने पार किया और मैं बस उन्हें देखता रह गया। 

हां, उन दोनो को आंखों की रौशनी को गए अरसा हो चुका था। हां,वो सबसे ज़रूरी चीज़ देख सकते थे।

ये वो लोग थे जो इस गवार को ज़िन्दगी भर की सीख दे गए,ये वो लोग थे जो इस गवार को दृष्टि दे गए। 

ये वो थे जिन्होंने प्यार शब्द को लड़का-लड़की से परे एक बेहद जनरल पहलू दिया।

ये वो थे जिन्होंने शायद कभी कांसेप्ट के बारे में सुना ही न हो,इन्होंने बस भरोसा कमाया था।

ये वो थे जो देख सकते थे।

मुझे पहले इसपर हँसी आती थी क्योंकि मैं ठहरा गवार!

Dear Future Dad

Dear future dad,

By the time you read this,you would have breached major obstacles in your life. You probably have a happy married life. And as per the generic norm ,you prayed your heart out for a child daughter. And while you’re all preparing for this lovely thing called fatherhood,kindly walk a different path,a righteous one.

While you’re about to shower fatherly love,you mustn’t bound it with  the decade old jurisdiction which prevailed a century before that.

Don’t feed your ‘angel’ sexism in the name of love. Feed her courage,feed her strength,feed her the wisdom that a generic father feeds  to his warrior lad . Tell her that she can very well  be the beauty and the beast. Tell her that waiting for charming bloke in the golden carriage is one thing that an independent human doesn’t dream of. 

And while she grows her way out of the patriarchal society,you tell her that she can go and rock that 360 turn on the pitch. You have your Fifa battles with her while she beats you amidst all the dad affection.

You tell her about the legends of your time that how the country of 1.2 billion people cheered for an olympic gold which was all rested on a majestic woman. How it were only those 4 women who inspired hope for medals. You better proudly tell her about India’s greatest boxer of all time,the magnificent Mary.

Don’t let her believe that she can’t be a geek just because she can’t see any geek to look upto. Enlighten her about the world’s first programmer and also about the person whose code landed humans on moon. 

Develope her into a color blind human who knows no skin privilege. Tell her about the wrongs of our forefathers; their unbendable ignorance.
Tell her to vibe with beautiful souls rather than ugly armours. Tell her that attachment is a thing of beauty,a cherishable experience which can’t be compromised with caste,colour,creed and religion.

And most importantly,you be her ultimate escape from sorrows,the one she shares coarse time with. 

You be the dude to her dad.

Precisely,briefly requested.

-You

Shades

Have you ever felt so

Comfortable in your

Blacks

And in your

Whites

That you can’t fathom slight tint of

Grey ?

Have you ever enjoyed the

Warmth of nonchalant

Blues

And the serenity of

Maroons

Just to complacently

Defy the songs of

Yellow?

Have you ever longed for

The despicable

Scarlets

And the lusty

Lilacs

To smudge your soul

Crimson?

Have you?

Note : Try not Rupi Kauring this,plis.